श्री जाहरवीर गोगाजी चालीसा

॥ दोहा ॥

सुवन केहरी जेवर, सुत महाबली रनधीर ।
बन्दौं सुत रानी बाछला, विपत निवारण वीर ॥
जय जय जय चौहान, वन्स गूगा वीर अनूप ।
अनंगपाल को जीतकर, आप बने सुर भूप ॥

॥ चौपाई ॥

जय जय जय जाहर रणधीरा ।
पर दुख भंजन बागड़ वीरा ॥१॥

गुरु गोरख का है वरदानी ।
जाहरवीर जोधा लासानी ॥२॥

गौरवरण मुख महा विशाला ।
माथे मुकट घुंघराले बाला ॥३॥

कांधे धनुष गले तुलसी माला ।
कमर कृपान रक्षा को डाला ॥४॥

जन्में गूगावीर जग जाना ।
ईसवी सन हजार दरमियाना ॥५॥

बल सागर गुण निधि कुमारा ।
दुखी जनों का बना सहारा ॥६॥

बागड़ पति बाछला नन्दन ।
जेवर सुत हरि भक्त निकन्दन ॥७॥

जेवर राव का पुत्र कहाये ।
माता पिता के नाम बढ़ाये ॥८॥

पूरन हुई कामना सारी ।
जिसने विनती करी तुम्हारी ॥९॥

सन्त उबारे असुर संहारे ।
भक्त जनों के काज संवारे ॥१०॥

गूगावीर की अजब कहानी ।
जिसको ब्याही श्रीयल रानी ॥११॥

बाछल रानी जेवर राना ।
महादुःखी थे बिन सन्ताना ॥१२॥

भंगिन ने जब बोली मारी ।
जीवन हो गया उनको भारी ॥१३॥

सूखा बाग पड़ा नौलक्खा ।
देख-देख जग का मन दुक्खा ॥१४॥

कुछ दिन पीछे साधू आये ।
चेला चेली संग में लाये ॥१५॥

जेवर राव ने कुआ बनवाया ।
उद्घाटन जब करना चाहा ॥१६॥

खारी नीर कुए से निकला ।
राजा रानी का मन पिघला ॥१७॥

रानी तब ज्योतिषी बुलवाया ।
कौन पाप मैं पुत्र न पाया ॥१८॥

कोई उपाय हमको बतलाओ ।
उन कहा गोरख गुरु मनाओ ॥१९॥

गुरु गोरख जो खुश हो जाई ।
सन्तान पाना मुश्किल नाई ॥२०॥

बाछल रानी गोरख गुन गावे ।
नेम धर्म को न बिसरावे ॥२१॥

करे तपस्या दिन और राती ।
एक वक्त खाय रूखी चपाती ॥२२॥

कार्तिक माघ में करे स्नाना ।
व्रत इकादसी नहीं भुलाना ॥२३॥

पूरनमासी व्रत नहीं छोड़े ।
दान पुण्य से मुख नहीं मोड़े ॥२४॥

चेलों के संग गोरख आये ।
नौलखे में तम्बू तनवाये ॥२५॥

मीठा नीर कुए का कीना ।
सूखा बाग हरा कर दीना ॥२६॥

मेवा फल सब साधु खाए ।
अपने गुरु के गुन को गाये ॥२७॥

औघड़ भिक्षा मांगने आए ।
बाछल रानी ने दुख सुनाये ॥२८॥

औघड़ जान लियो मन माहीं ।
तप बल से कुछ मुश्किल नाहीं ॥२९॥

रानी होवे मनसा पूरी ।
गुरु शरण है बहुत जरूरी ॥३०॥

बारह बरस जपा गुरु नामा ।
तब गोरख ने मन में जाना ॥३१॥

पुत्र देन की हामी भर ली ।
पूरनमासी निश्चय कर ली ॥३२॥

काछल कपटिन गजब गुजारा ।
धोखा गुरु संग किया करारा ॥३३॥

बाछल बनकर पुत्र पाया ।
बहन का दरद जरा नहीं आया ॥३४॥

औघड़ गुरु को भेद बताया ।
तब बाछल ने गूगल पाया ॥३५॥

कर परसादी दिया गूगल दाना ।
अब तुम पुत्र जनो मरदाना ॥३६॥

लीली घोड़ी और पण्डतानी ।
लूना दासी ने भी जानी ॥३७॥

रानी गूगल बाट के खाई ।
सब बांझों को मिली दवाई ॥३८॥

नरसिंह पंडित लीला घोड़ा ।
भज्जु कुतवाल जना रणधीरा ॥३९॥

रूप विकट धर सब ही डरावे ।
जाहरवीर के मन को भावे ॥४०॥

भादों कृष्ण जब नौमी आई ।
जेवरराव के बजी बधाई ॥४१॥

विवाह हुआ गूगा भये राना ।
संगलदीप में बने मेहमाना ॥४२॥

रानी श्रीयल संग परे फेरे ।
जाहर राज बागड़ का करे ॥४३॥

अरजन सरजन काछल जने ।
गूगा वीर से रहे वे तने ॥४४॥

दिल्ली गए लड़ने के काजा ।
अनंग पाल चढ़े महाराजा ॥४५॥

उसने घेरी बागड़ सारी ।
जाहरवीर न हिम्मत हारी ॥४६॥

अरजन सरजन जान से मारे ।
अनंगपाल ने शस्त्र डारे ॥४७॥

चरण पकड़कर पिण्ड छुड़ाया ।
सिंह भवन माड़ी बनवाया ॥४८॥

उसीमें गूगावीर समाये ।
गोरख टीला धूनी रमाये ॥४९॥

पुण्य वान सेवक वहाँ आये ।
तन मन धन से सेवा लाए ॥५०॥

मनसा पूरी उनकी होई ।
गूगावीर को सुमरे जोई ॥५१॥

चालीस दिन पढ़े जाहर चालीसा ।
सारे कष्ट हरे जगदीसा ॥५२॥

दूध पूत उन्हें दे विधाता ।
कृपा करे गुरु गोरखनाथ ॥५३॥

॥ इति श्री जाहरवीर चालीसा संपूर्णम् ॥

Leave a Comment