शंकर पंच रत्न स्तोत्र

|| शंकर पंच रत्न स्तोत्र || शिवांशं त्रयीमार्गगामिप्रियं तं कलिघ्नं तपोराशियुक्तं भवन्तम्। परं पुण्यशीलं पवित्रीकृताङ्गं भजे शङ्कराचार्यमाचार्यरत्नम्। करे दण्डमेकं दधानं विशुद्धं सुरैर्ब्रह्मविष्ण्वादिभिर्ध्यानगम्यम्। सुसूक्ष्मं वरं वेदतत्त्वज्ञमीशं भजे शङ्कराचार्यमाचार्यरत्नम्। रवीन्द्वक्षिणं सर्वशास्त्रप्रवीणं समं निर्मलाङ्गं महावाक्यविज्ञम्। गुरुं तोटकाचार्यसम्पूजितं तं भजे शङ्कराचार्यमाचार्यरत्नम्। चरं सच्चरित्रं सदा भद्रचित्तं जगत्पूज्यपादाब्जमज्ञाननाशम्। जगन्मुक्तिदातारमेकं विशालं भजे शङ्कराचार्यमाचार्यरत्नम्। यतिश्रेष्ठमेकाग्रचित्तं महान्तं सुशान्तं गुणातीतमाकाशवासम्। निरातङ्कमादित्यभासं नितान्तं भजे शङ्कराचार्यमाचार्यरत्नम्। पठेत्…

गुरु पुष्पाञ्जलि स्तोत्र

|| गुरु पुष्पाञ्जलि स्तोत्र || शास्त्राम्बुधेर्नावमदभ्रबुद्धिं सच्छिष्यहृत्सारसतीक्ष्णरश्मिम्। अज्ञानवृत्रस्य विभावसुं तं मत्पद्यपुष्पैर्गुरुमर्चयामि। विद्यार्थिशारङ्गबलाहकाख्यं जाड्याद्यहीनां गरुडं सुरेज्यम्। अशास्त्रविद्यावनवह्निरूपं मत्पद्यपुष्पैर्गुरुमर्चयामि। न मेऽस्ति वित्तं न च मेऽस्ति शक्तिः क्रेतुं प्रसूनानि गुरोः कृते भोः। तस्माद्वरेण्यं करुणासमुद्रं मत्पद्यपुष्पैर्गुरुमर्चयामि। कृत्वोद्भवे पूर्वतने मदीये भूयांसि पापानि पुनर्भवेऽस्मिन्। संसारपारङ्गतमाश्रितोऽहं मत्पद्यपुष्पैर्गुरुमर्चयामि। आधारभूतं जगतः सुखानां प्रज्ञाधनं सर्वविभूतिबीजम्। पीडार्तलङ्कापतिजानकीशं मत्पद्यपुष्पैर्गुरुमर्चयामि। विद्याविहीनाः कृपया हि यस्य वाचस्पतित्वं सुलभं लभन्ते। तं…

नरक चतुर्दशी कथा

|| नरक चतुर्दशी कथा || कार्तिक महीने में कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को रूप चौदस, नरक चतुर्दशी कहते हैं। बंगाल में इस दिन को मां काली के जन्मदिन के रूप में काली चौदस के तौर पर मनाया जाता है। इसे छोटी दीपावली भी कहते हैं। इस दिन स्नानादि से निवृत्त होकर यमराज का तर्पण कर…

गुरुपादुका स्तोत्र

|| गुरुपादुका स्तोत्र || जगज्जनिस्तेम- लयालयाभ्यामगण्य- पुण्योदयभाविताभ्याम्। त्रयीशिरोजात- निवेदिताभ्यां नमो नमः श्रीगुरुपादुकाभ्यम्। विपत्तमःस्तोम- विकर्तनाभ्यां विशिष्टसंपत्ति- विवर्धनाभ्याम्। नमज्जनाशेष- विशेषदाभ्यां नमो नमः श्रीगुरुपादुकाभ्याम्। समस्तदुस्तर्क- कलङ्कपङ्कापनोदन- प्रौढजलाशयाभ्याम्। निराश्रयाभ्यां निखिलाश्रयाभ्यां नमो नमः श्रीगुरुपादुकाभ्याम्। तापत्रयादित्य- करार्दितानां छायामयीभ्यामति- शीतलाभ्याम्। आपन्नसंरक्षण- दीक्षिताभ्यां नमो नमः श्रीगुरुपादुकाभ्याम्। यतो गिरोऽप्राप्य धिया समस्ता ह्रिया निवृत्ताः सममेव नित्याः। ताभ्यामजेशाच्युत- भाविताभ्यां नमो नमः श्रीगुरुपादुकाभ्याम्। ये पादुकापञ्चकमादरेण पठन्ति नित्यं…

रामानुज स्तोत्र

|| रामानुज स्तोत्र || पाषण्डद्रुमषण्डदाव- दहनश्चार्वाकशैलाशनि- र्बौद्धध्वान्तनिरासवासर- पतिर्जैनेभकण्ठीरवः। मायावादिभुजङ्गभङ्ग- गरुडस्त्रैविद्यचूडामणिः श्रीरङ्गेशजयध्वजो विजयते रामानुजोऽयं मुनिः। पाषण्डषण्डगिरि- खण्डनवज्रदण्डाः प्रच्छन्नबौद्धमकरालय- मन्थदण्डाः। वेदान्तसारसुख- दर्शनदीपदण्डाः रामानुजस्य विलसन्ति मुनेस्त्रिदण्डाः। चारित्रोद्धारदण्डं चतुरनयपथा- लङ्क्रियाकेतुदण्डं सद्विद्यादीपदण्डं सकलकलिकथासंहृतेः कालदण्डम्। त्रय्यन्तालम्बदण्डं त्रिभुवनविजयच्छत्र- सौवर्णदण्डं धत्ते रामानुजार्यः प्रतिकथकशिरोवज्रदण्डं त्रिदण्डम्। त्रय्या माङ्गल्यसूत्रं त्रियुगयुगपथा- रोहणालम्बसूत्रं सद्विद्यादीपसूत्रं सगुणनयकथासम्पदां हारसूत्रम्। प्रज्ञासूत्रं बुधानां प्रशमधनमनः पद्मिनीनालसूत्रं रक्षासूत्रं यतीनां जयति यतिपतेर्वक्षसि ब्रह्मसूत्रम्। पाषण्डसागर- महावडवामुखाग्निः श्रीरङ्गराज-…

दत्त गुरु स्तोत्र

|| दत्त गुरु स्तोत्र || सुनीलमणिभासुरा- दृतसुरातवार्ता सुरा- सुरावितदुराशरावित- नरावराशाम्बरा। वरादरकरा कराक्षणधरा धरापादराद- रारवपरा परा तनुरिमां स्मराम्यादरात् । सदादृतपदा पदाहृतपदा सदाचारदा सदानिजहृदास्पदा शुभरदा मुदा सम्मदा। मदान्तकपदा कदापि तव दासदारिद्रहा वदान्यवरदास्तु मेऽन्तर उदारवीरारिहा। जयाजतनयाभया सदुदया दयार्द्राशया शयात्तविजयाजया तव तनुस्तया हृत्स्थया। नयादरदया दयाविशदया वियोगोनया तयाश्रय न मे हृदास्तु शुभया भया भातया। चिदात्यय उरुं गुरुं यमृषयोपि चेरुर्गुरुः स्वशान्तिविजितागुरुः…

वेदसार दक्षिणामूर्ति स्तुति

|| वेदसार दक्षिणामूर्ति स्तुति || वृतसकलमुनीन्द्रं चारुहासं सुरेशं वरजलनिधिसंस्थं शास्त्रवादीषु रम्यम्। सकलविबुधवन्द्यं वेदवेदाङ्गवेद्यं त्रिभुवनपुरराजं दक्षिणामूर्तिमीडे। विदितनिखिलतत्त्वं देवदेवं विशालं विजितसकलविश्वं चाक्षमालासुहस्तम्। प्रणवपरविधानं ज्ञानमुद्रां दधानं त्रिभुवनपुरराजं दक्षिणामूर्तिमीडे। विकसितमतिदानं मुक्तिदानं प्रधानं सुरनिकरवदन्यं कामितार्थप्रदं तम्। मृतिजयममरादिं सर्वभूषाविभूषं त्रिभुवनपुरराजं दक्षिणामूर्तिमीडे। विगतगुणजरागं स्निग्धपादाम्बुजं तं त्निनयनमुरमेकं सुन्दराऽऽरामरूपम। रविहिमरुचिनेत्रं सर्वविद्यानिधीशं त्रिभुवनपुरराजं दक्षिणामूर्तिमीडे। प्रभुमवनतधीरं ज्ञानगम्यं नृपालं सहजगुणवितानं शुद्धचित्तं शिवांशम्। भुजगगलविभूषं भूतनाथं भवाख्यं त्रिभुवनपुरराजं दक्षिणामूर्तिमीडे।

ब्रह्मविद्या पंचक स्तोत्र

|| ब्रह्मविद्या पंचक स्तोत्र || नित्यानित्यविवेकतो हि नितरां निर्वेदमापद्य सद्- विद्वानत्र शमादिषट्कलसितः स्यान्मुक्तिकामो भुवि। पश्चाद्ब्रह्मविदुत्तमं प्रणतिसेवाद्यैः प्रसन्नं गुरुं पृच्छेत् कोऽहमिदं कुतो जगदिति स्वामिन्! वद त्वं प्रभो। त्वं हि ब्रह्म न चेन्द्रियाणि न मनो बुद्धिर्न चित्तं वपुः प्राणाहङ्कृतयोऽन्यद- प्यसदविद्याकल्पितं स्वात्मनि। सर्वं दृश्यतया जडं जगदिदं त्वत्तः परं नान्यतो जातं न स्वत एव भाति मृगतृष्णाभं दरीदृश्यताम्। व्यप्तं येन…

वेदव्यास अष्टक स्तोत्र

|| वेदव्यास अष्टक स्तोत्र || सुजने मतितो विलोपिते निखिले गौतमशापतोमरैः। कमलासनपूर्वकैस्स्ततो मतिदो मेस्तु स बादरायणः। विमलोऽपि पराशरादभूद्भुवि भक्ताभिमतार्थ सिद्धये। व्यभजद् बहुधा सदागमान् मतिदो मेस्तु स बादरायणः। सुतपोमतिशालिजैमिनि- प्रमुखानेकविनेयमण्डितः। उरुभारतकृन्महायशा मतिदो मेस्तु स बादरायणः। निखिलागमनिर्णयात्मकं विमलं ब्रह्मसुसूत्रमातनोत्। परिहृत्य महादुरागमान् मतिदो मेस्तु स बादरायणः। बदरीतरुमण्डिताश्रमे सुखतीर्थेष्टविनेयदेशिकः। उरुतद्भजनप्रसन्नहृन्मतिदो मेस्तु स बादरायणः। अजिनाम्बररूपया क्रियापरिवीतो मुनिवेषभूषितः। मुनिभावितपादपङ्कजो मतिदो मेस्तु स…

शंकराचार्य भुजंग स्तोत्र

|| शंकराचार्य भुजंग स्तोत्र || कृपासागरायाशुकाव्यप्रदाय प्रणम्राखिलाभीष्टसन्दायकाय। यतीन्द्रैरुपास्याङ्घ्रिपाथोरुहाय प्रबोधप्रदात्रे नमः शङ्कराय। चिदानन्दरूपाय चिन्मुद्रिकोद्यत्करायेशपर्यायरूपाय तुभ्यम्। मुदा गीयमानाय वेदोत्तमाङ्गैः श्रितानन्ददात्रे नमः शङ्कराय। जटाजूटमध्ये पुरा या सुराणां धुनी साद्य कर्मन्दिरूपस्य शम्भोः। गले मल्लिकामालिकाव्याजतस्ते विभातीति मन्ये गुरो किं तथैव। नखेन्दुप्रभाधूतनम्रालिहार्दान्धकार- व्रजायाब्जमन्दस्मिताय। महामोहपाथोनिधेर्बाडबाय प्रशान्ताय कुर्मो नमः शङ्कराय। प्रणम्रान्तरङ्गाब्जबोधप्रदात्रे दिवारात्रमव्याहतोस्राय कामम्। क्षपेशाय चित्राय लक्ष्मक्षयाभ्यां विहीनाय कुर्मो नमः शङ्कराय। प्रणम्रास्यपाथोजमोदप्रदात्रे सदान्तस्तमस्तोमसंहारकर्त्रे। रजन्यामपीद्धप्रकाशाय…

शंकराचार्य करावलम्ब स्तोत्र

|| शंकराचार्य करावलम्ब स्तोत्र || ओमित्यशेषविबुधाः शिरसा यदाज्ञां सम्बिभ्रते सुममयीमिव नव्यमालाम्। ओङ्कारजापरतलभ्यपदाब्ज स त्वं श्रीशङ्करार्य मम देहि करावलम्बम्| नम्रालिहृत्तिमिरचण्डमयूखमालिन् कम्रस्मितापहृतकुन्दसुधांशुदर्प। सम्राट यदीयदयया प्रभवेद्दरिद्रः श्रीशङ्करार्य मम देहि करावलम्बम्| मस्ते दुरक्षरततिर्लिखिता विधात्रा जागर्तु साध्वसलवोऽपि न मेऽस्ति तस्याः। लुम्पामि ते करुणया करुणाम्बुधे तां श्रीशङ्करार्य मम देहि करावलम्बम्| शम्पालतासदृशभास्वरदेहयुक्त सम्पादयाम्यखिलशास्त्रधियं कदा वा। शङ्कानिवारणपटो नमतां नराणां श्रीशङ्करार्य मम देहि करावलम्बम्|…

कल्कि जयन्ती 2024 कब है, कैसे मनाएं, क्या महत्व है?

kalki bhagwan

कल्कि जयंती हिन्दू धर्म के वैष्णव संप्रदाय का एक महत्वपूर्ण पर्व है। यह भगवान विष्णु के दसवें और अंतिम अवतार, भगवान कल्कि के जन्मदिवस के उपलक्ष्य में मनाया जाता है। कल्कि जयन्ती भगवान विष्णु के दसवें अवतार, कल्कि, के जन्म का उत्सव है। इसे हिंदू धर्म में अत्यंत महत्वपूर्ण माना जाता है। कल्कि अवतार को…

दक्षिणामूर्ति दशक स्तोत्र

|| दक्षिणामूर्ति दशक स्तोत्र || पुन्नागवारिजातप्रभृतिसुमस्रग्विभूषितग्रीवः। पुरगर्वमर्दनचणः पुरतो मम भवतु दक्षिणामूर्तिः। पूजितपदाम्बुजातः पुरुषोत्तमदेवराजपद्मभवैः। पूगप्रदः कलानां पुरतो मम भवतु दक्षिणामूर्तिः। हालाहलोज्ज्वलगलः शैलादिप्रवरगणैर्वीतः। कालाहङ्कृतिदलनः पुरतो मम भवतु दक्षिणामूर्तिः। कैलासशैलानलयो लीलालेशेन निर्मिताजाण्डः। बालाब्जकृतावतंसः पुरतो मम भवतु दक्षिणामूर्तिः। चेलाजितकुन्ददुग्धो लोलः शैलाधिराजतनयायाम्। फालविराजद्वह्निः पुरतो मम भवतु दक्षिणामूर्तिः। न्यग्रोधमूलवासी न्यक्कृतचन्द्रो मुखाम्बुजातेन। पुण्यैकलभ्यचरणः पुरतो मम भवतु दक्षिणामूर्तिः। मन्दार आनतततेर्वृन्दारकवृन्दवन्दितपदाब्जः। वन्दारुपूर्णकरुणः पुरतो मम…

मृत्युहरण नारायण स्तोत्र

|| मृत्युहरण नारायण स्तोत्र || नारायणं सहस्राक्षं पद्मनाभं पुरातनम्। हृषीकेशं प्रपन्नोऽस्मि किं मे मृत्युः करिष्यति। गोविन्दं पुण्डरीकाक्षमनन्तमजमव्ययम्। केशवं च प्रपन्नोऽस्मि किं मे मृत्युः करिष्यति। वासुदेवं जगद्योनिं भानुवर्णमतीन्द्रियम्। दामोदरं प्रपन्नोऽस्मि किं मे मृत्युः करिष्यति। शङ्खचक्रधरं देवं छत्ररूपिणमव्ययम्। अधोक्षजं प्रपन्नोऽस्मि किं मे मृत्युः करिष्यति। वाराहं वामनं विष्णुं नरसिंहं जनार्दनम्। माधवं च प्रपन्नोऽस्मि किं मे मृत्युः करिष्यति। पुरुषं…

हरि कारुण्य स्तोत्र

|| हरि कारुण्य स्तोत्र || या त्वरा जलसञ्चारे या त्वरा वेदरक्षणे। मय्यार्त्ते करुणामूर्ते सा त्वरा क्व गता हरे। या त्वरा मन्दरोद्धारे या त्वराऽमृतरक्षणे। मय्यार्त्ते करुणामूर्ते सा त्वरा क्व गता हरे। या त्वरा क्रोडवेषस्य विधृतौ भूसमृद्धृतौ। मय्यार्त्ते करुणामूर्ते सा त्वरा क्व गता हरे। या त्वरा चान्द्रमालाया धारणे पोथरक्षणे। मय्यार्त्ते करुणामूर्ते सा त्वरा क्व गता हरे। या…